Home गॉसिप

श्रीदेवी, नरेंद्र झा, ओम पुरी, सेलिब्रिटीज को लील रहा कार्डियक अरेस्‍ट

Published:
SHARE

1/754 की थीं श्रीदेवी, 55 के नरेंद्र झा

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi

बीते महीने फरवरी 2018 में बॉलीवुड सुपरस्‍टर श्रीदेवी का निधन हो गया। वह महज 54 साल की थीं। बुधवार 14 मार्च 2018 को पॉपुलर एक्‍टर नरेंद्र झा भी महज 55 साल की उम्र में दुनिया को छोड़ गए। दोनों की ही मौत कार्डियक अरेस्‍ट से हुई। इससे पहले ओम पुरी (66), इंदर कुमार (44), रीमा लागू (58) जैसे बेहतरीन सितारे भी कार्डियक अरेस्‍ट के कारण ही दुनिया से रुखसत हुए। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि आख‍िर सेलिब्रिटीज के लिए कार्डियक अरेस्‍ट सबसे बड़ा खतरा कैसे बन गया है?

2/7हार्ट अटैक से ज्‍यादा खतरनाक है कार्ड‍ियक अरेस्‍ट

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi

कार्डियक अरेस्‍ट असल में दिल का दौरा यानी हार्ट अटैक से अलग है। बल्‍क‍ि यह दिल का दौरा पड़ने से ज्‍यादा खतरनाक होता है। डॉक्‍टर्स बताते हैं कि कार्डियक अरेस्‍ट अक्‍सर अचानक होता है। यानी इसको लेकर कोई भी चेतावनी संकेत नहीं दिया जा सकता है। हालांकि, राहत की बात यह है कि कुछ हालिया अध्ययनों ने कार्डियक अरेस्‍ट के कुछ लक्षण जरूर बता द‍िए हैं।

3/7इसलिए होता है हार्ट अटैक

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi

हार्ट अटैक या मायोकार्डियल इन्फ्रैक्शन तब होता है, जब शरीर की कोरोनरी आर्टरी (धमनी) में अचानक गतिरोध पैदा हो जाता है। धमनी से ही हमारे हृदय की पेशियों तक खून पहुंचता है। ऐसे में जब वहां खून पहुंचना बंद हो जाता है, तो वे निष्क्रिय हो जाती हैं। यानी हार्ट अटैक होने पर दिल के भीतर की कुछ पेशियां काम करना बंद कर देती हैं। धमनियों में आए इस तरह के ब्लॉकेज को दूर करने के लिए कई तरह के उपचार किए जाते हैं, जिनमें एंजियोप्लास्टी, स्टंटिंग और सर्जरी शामिल हैं।

4/7क्‍या होता है कार्डियक अरेस्‍ट

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi

कार्डियक अरेस्ट तब होता है जब दिल के अंदर वेंट्रीकुलर फाइब्रिलेशन पैदा हो। सरल शब्‍दों में कहें तो इसमें दिल के भीतर विभिन्न हिस्सों के बीच आदान-प्रदान गड़बड़ हो जाती है। इस वजह से दिल की धड़कन पर बुरा असर पड़ता है। स्थिति पूरी तरह बिगड़ने पर दिल की धड़कन रुक जाती है और व्यक्ति की मौत हो जाती है। कार्डियक अरेस्ट के इलाज के लिए मरीज को कार्डियोपल्मोनरी रेसस्टिसेशन (सीपीआर) दिया जाता है, जिससे उसकी उसकी हृदयगति को नियमित किया जा सके। मरीज को ‘डिफाइब्रिलेटर’ से बिजली का झटका दिया जाता है, जिससे दिल की धड़कन को नियमित होने में मदद मिलती है।

5/7किनको है ज्‍यादा खतरा

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi
इंदर कुमार की फाइल फोटो

वैसे तो जिन लोगों को पहले से दिल की बीमारी हो, उनमें कार्डियक अरेस्ट होने की आशंका ज्‍यादा रहती है। इसके अलावा जिनको पहले हार्ट अटैक हो चुका हो, उनमें आशंका और बढ़ जाती है। किसी के परिवार में दिल की बीमारी की हिस्‍ट्री है तो भी सावधान रहने की जरूरत है।

6/7फिल्‍मी दुनिया पर क्‍यों मंडराया साया

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi
रीमा लागू की फाइल फोटो

दिल की बीमारी से इतर कार्डियक अरेस्‍ट की असल जड़ लाइफस्‍टाइल है। हाई ब्‍लड प्रेशर, हायपरटेंशन, डायबीटीज, सिगरेट पीना, कोलेस्‍ट्रोल लेवल का बढ़ जाना, अध‍िक शराब पीना और फिजिकल वर्क कम करना कार्डियक अरेस्‍ट के लिए रिस्‍क फैक्‍टर है। सितारों की दुनिया चकाचौंध भरी भले हो, लेकिन हायपरटेंशन, सिगरेट-शराब की लत, फास्‍ट फूड और अनियमित दिनचर्या उनमें इस बीमारी को लेकर रिस्‍क बढ़ा देती हैं।

7/7क्‍या हो सकते हैं कार्डियक अरेस्‍ट के लक्षण

After Sridevi Narendra Jha Dies of Cardiac Arrest Everything You Need To Know About This Deadly Attack News in Hindi

– लगातार चक्कर आना, जो आसानी से नहीं जाए
– थकान का एहसास होना
– सांस लेने में समस्‍या
– दिल में घबराहट होना
– कई मामलों में कार्ड‍ियक अरेस्‍ट से करीब चार हफ्ते पहले सीने में दर्द की भी श‍िकायत हुई है
– महिलाओं के मामले में सीने में दर्द के अलावा गर्दन दर्द, कंधों में दर्द या पीठ दर्द की श‍िकायत को भी इग्‍नोर नहीं करना चाहिए।