Home मूवी रिव्यू

Baaghi 2 Review: एक्‍शन के दीवानों के लिए टाइगर की सौगात

Published:
SHARE
बागी 2 फिल्‍म रिव्‍यू

बागी 2

रेटिंग:

3/5

कास्‍ट:

टाइगर श्रॉफ, दिशा पाटनी, मनोज बाजपेई, अरमान कोहली, विजय राज

डायरेक्‍टर:

अहमद खान

समय:

2 घंटे 25 मिनट

जॉनर:

एक्‍शन, रोमांस

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

रचित गुप्‍ता

1/9कहानी

एक तीन साल की बच्‍ची रिया का किडनैप हो गया है। इस घटना को 2 महीने बीत गए हैं। लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चल पा रहा है। नेहा (द‍िशा पाटनी) अपने एक्‍स बॉयफ्रेंड और आर्मी मैन रणवीर (टाइगर श्रॉफ) से संपर्क करती है। रणवीर यानी रॉनी को अब बच्‍ची को ढूंढ़ना है और रहस्‍यों को सुलझाना है।

2/9समीक्षा

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

‘बागी 2’ पूरी तरह से एक्‍शन फिल्‍म है, जिसमें सस्‍पेंस और थ्र‍िलर का भी तड़का है। फिल्‍म के पहले भाग में कहानी को स्‍थापित किया गया है। एक परेशान मां अपने एक्‍स बॉयफ्रेंड रॉनी से मदद मांगती है। रॉनी केस की जांच भी शुरू करता है। लेकिन जैसे-जैसे वो आगे बढ़ता है, वो पाता है कि नेहा की बच्‍ची के बारे में किसी के पास कोई जानकारी नहीं है। कहानी इस दौरान बहुत धीमी रफ्तार से आगे बढ़ती है, लेकिन इंटरवल तक दर्शक इसमें रम जाते हैं और यह मनोरंजक लगने लगता है।

3/9फर्स्‍ट हाफ में कहानी पर है फोकस

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

कहानी में किरदारों को स्‍थापित करने और रहस्‍य को उलझन भरा बनाने में थोड़ा समय लिया गया है। इंटरवल से पहले कुछ एक्‍शन सीक्‍वेंस हैं, लेकिन असली फोकस नेहा और रॉनी के रिश्‍तों पर रखा गया है। साथ ही यह भी कि कैसे उनका बीता हुआ कल, उनके आज को प्रभावित कर रहा है।

4/9इंटरवल के बाद एक्‍शन ही एक्‍शन

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

इंटरवल के बाद की फिल्‍म पूरी तरह से अलग है। कहानी, सस्‍पेंस और रोमांस में पहले जो धीमी गति थी, वो सेकेंड हाफ में ट्विस्‍ट और टर्न के कारण पूरी तरह से एक्‍शन पैक्‍ड बन जाती है। रॉनी का किरदार जो पहले तथ्‍यों को लेकर उलझन में था, वो अब खून का प्‍यासा बन जाता है। उसके दिमाग में अब बदले की सनक है। वह रैम्‍बो का देसी वर्जन है, जो अकेले की बंदूकों की तड़तड़ाहट के साथ पूरी सेना से भ‍िड़ जाता है।

5/9यहां गच्‍चा खा जाती है फिल्‍म

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

बतौर डायरेक्‍टर अहमद खान ने पूरी कोश‍िश की है कि एक्‍शन सीक्‍वेंस को बेहतरीन तरीके से फिल्‍माया जाए और यह पर्दे पर कूल दिखना चाहिए। हालांकि, यह दुखदायी है कि एक्‍शन कोरियोग्राफी और स्‍टंट्स के चक्‍कर में कहानी मात खा जाती है। दूसरे भाग में फिल्‍म कहानी के स्‍तर पर बहुत कम खुलती है। फिल्‍म के पहले भाग में जहां कहानी बुनी जाती है, रहस्‍य गढ़े जाते हैं, रोमांच बनाया जाता है, वहीं दूसरे भाग में एक्‍शन के चक्‍कर में यह सब फिट नहीं बैठता। डायरेक्‍शन कमजोर पड़ जाता है।

6/9एक्‍शन का ट्रेडमार्क

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

यदि आप सिल्वेस्टर स्टेलोन और अरनॉल्ड श्वार्जनेगर की फिल्‍में देखते हुए बड़े हुए हैं तो टाइगर श्रॉफ का यह वन मैन आर्मी अवतार आपको पसंद आएगा। टाइगर पर्दे पर अपने ट्रेडमार्क स्‍टंट्स करते हैं। उनके एक्‍शन में कुशलता नजर आती है। सबकुछ कूल अंदाज में। बदमाशों को ढेर करते हुए वह अच्‍छे दिखते हैं। कई मौकों पर फिल्‍म अपने हीरो की ताकत (एक्‍शन) के सहारे टिकी है और यह अच्‍छा भी लगता है।

7/9असरदार दिशा, दिग्‍गजों के पास मौका नहीं

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

फर्स्‍ट हाफ में कई सारी फ्लैशबैक स्‍टोरीज हैं, जिनमें दिशा पाटनी प्‍यारी सी कॉलेज गर्ल लगी हैं। लेकिन दूसरे भाग में एक परेशान में मां के किरदार में वह ज्‍यादा छाप छोड़ती हैं। फिल्‍म में रणदीप हुड्डा, दीपक डोबरियाल और मनोज बाजपेई जैसे मंझे हुए कलाकारों ने सर्पोटिंग रोल निभाया है। लेकिन इनके किरदारों को उतनी तवज्‍जो नहीं दी गई है। नेहा के देवर के किरदार में प्रतीक बब्‍बर हैं, लेकिन वह कोई कमाल नहीं दिखा पाए हैं।

8/9जरूरत से थोड़ी ज्‍यादा लंबी है फिल्‍म

Baaghi 2 Movie Review in Hindi

किसी भी कर्मश‍ियल फिल्‍म की तर्ज पर इस फिल्‍म में भी गाने महत्‍वपूर्ण हैं। ‘मुंडिया तू बच के’ और ‘एक दो तीन’ का रीमिक्‍स अवतार दर्शकों को पसंद आता है। लेकिन ये सिर्फ फिल्‍म की अवधि बढ़ाते हैं। 2 घंटे 25 मिनट की फिल्‍म के तौर पर ‘बागी 2’ थोड़ी लंबी जान पड़ती है। बेहतर एडिटिंग और चुस्‍त स्‍क्रीनप्‍ले के बल पर इसे ज्‍यादा दमदार बनाया जा सकता था। बहरहाल, एक्‍शन के दीवानों के लिए ‘बागी 2’ एक बार तो जरूर देखने लायक है।

9/9देखें, ‘बागी 2’ का धमाकेदार ट्रेलर