Home मूवी रिव्यू

Golmaal Again Review: लॉजिक नहीं, सिर्फ मैजिक है

Published:
SHARE
गोलमाल अगेन फिल्‍म समीक्षा

गोलमाल अगेन

रेटिंग:

3.5/5

कास्‍ट:

अजय देवगन, अरशद वारसी, तबू, तुषार कपूर, श्रेयष तलपडे, परिणीति चोपड़ा, प्रकाश राज, नील नितिन मुकेश, कुणाल खेमू, मुकेश तिवारी, जॉनी लीवर

डायरेक्‍टर:

रोहित शेट्टी

समय:

2 घंटे 31 मिनट

जॉनर:

कॉमेडी

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

मीणा अय्यर

1/8कहानी

पांच चड्डी बडी हैं- गोपाल (अजय), माधव (अरशद), लकी (तुषार), लक्ष्‍मण (श्रेयष), एक और लक्ष्‍मण (कुणाल)। सभी अनाथ हैं। पांचों की परवरिश ऊटी के जमनादास अनाथाश्रम में हुई है। पांचों को अनाथाश्रम में अपने मेंटर के निधन की खबर मिलती है। यह गैंग ऊटी पहुंचता है। वहां जाकर उन्‍हें पता चलता है कि वासु रेड्डी (प्रकाश राज) और निख‍िल (नील) मिलकर इस अनाथाश्रम को हटाकर अपना बिजनेस बढ़ाना चाहते हैं। इस प्‍लान में कर्नल चौहान (सचिन खेडकर) की बगल वाली जमीन भी शामिल है।

2/8गोपाल एंड गैंग का बदला

Golmaal Again Movie Review in Hindi

गोपाल एंड गैंग ये तय करते हैं क‍ि वो बिल्‍डर्स को रोकेंगे और उनके बदला लेंगे। लेकिन इसी बीच उन्‍हें यह भी एहसास होता है कि कुछ फ्रेंडली भूत भी वहां रहते हैं। कहानी में एना मैथ्‍यू (तबू) भी है। वह आश्रम में लाइब्रेरियन है और भूतों से बात कर सकती है। वह गोपाल एंड गैंग के लिए गाइड की तरह है।

3/8समीक्षा

Golmaal Again Movie Review in Hindi

‘गोलमाल सीरीज’ बीते 11 वर्षों से दर्शकों को हंसाने का काम कर रही है। टीवी चैनलों पर इस सीरीज की फिल्‍में जब भी आती हैं, दर्शक कहीं से भी देखना शुरू करें हंसते जरूर हैं। सीरीज की पिछली फिल्‍मों की तरह इस बार भी ऐसा ही मसाला है। फिल्‍म आपको कई मौकों पर खूब हंसाती है। हालांकि, कई मौकों पर किरदार वही करते दिखते हैं जो वो पिछली फिल्‍मों में करते आए हैं। लेकिन फिर भी गोपाल एंड गैंग के हर सदस्‍य को देखना अच्‍छा लगता है।

4/8भूतों से और भूतों संग डर नहीं हंसी आती है

Golmaal Again Movie Review in Hindi

फिल्‍म में चाहे लक्ष्मण (श्रेयस) के बोलने का अंदाज हो या गोपाल के अपने दोस्‍तों को धमका के रखने का। इन सभी को भूतों से डर लगता है। और ये डर ऐसा है कि आप बिना मुस्‍कुराए नहीं रह सकते। फिल्‍म के डायलॉग सामान्‍य लग सकते हैं, लेनिक उनमें हंसी का पुट जरूर है।

5/8इंटरवल के बाद असली कहानी

Golmaal Again Movie Review in Hindi

फिल्‍म में जो भूत है उसे बदला लेना है। यह साउथ इंडियन फिल्‍म ‘कंचन’ से थोड़ी प्रेरित जरूर है, लेकिन इस बदले को भी हंसी-मजाक के लहजे में बुना गया है। इंटरवल के बाद फिल्‍म में असली कहानी शुरू होती है। हालांकि, इसको और बेहतर ढंग से प्रस्‍तुत किया जा सकता था।

6/8ये रोहित शेट्टी की फिल्‍म है

Golmaal Again Movie Review in Hindi

एक बात जरूर है कि यह रोहित शेट्टी की फिल्‍म है। लिहाजा वो आपको बोर नहीं होने देते हैं। फाइट सीन से लेकर गाड़‍ियों के उड़ने, हंसी-मजाक के बीच भूत-प्रेम। कुल मिलाकर उन्‍होंने फिल्‍म में जमकर मसाला डाला है। कई बार आपको फिल्‍म देखते हुए लग सकता है कि आप बेवकूफ हैं, लेकिन आप हंसने के अलावा कुछ नहीं कर सकते।

7/8श्रेयष तलपडे ने लूटा मजमा

Golmaal Again Movie Review in Hindi

परफॉर्मेंस की बात करे तो तबू ने अपने किरदार के साथ न्‍याय किया है। वसूली भाई के रूप में मुकेश तिवारी और पप्‍पी भाई के किरदार में जॉनी लीवर हमेशा की तरह अच्‍छे लगे हैं। लेकिन श्रेयष तलपडे का काम सबसे जबरदस्‍त है। वो जब भी पर्दे पर आते हैं छा जाते हैं। परिणीति चोपड़ा (खुशी/दामिनी) का काम ध्‍यान भटकाने का है और वह यही करती हैं। बाकी अजय, अरशद, तुषार और कुणाल अपने-अपने हिस्‍से में बेहतरीन हैं।

8/8सिर्फ हंसना चाहते हैं तो देख आइए

Golmaal Again Movie Review in Hindi

कुल मिलकार यदि आप कोई लॉजिक या फिल्‍म में कुछ मजबूत तत्‍व ढूंढ़ने जा रहे हैं तो ठहरिए। जैसा कि ट्रेलर में कहा गया इसमें सिर्फ मैजिक है कोई लॉजिक नहीं। यानी अगर सिर्फ हंसना चाहते हैं तो ‘गोलमाल’ आपको अगेन हंसाने वाला है।