Home मूवी रिव्यू

Omerta Review: एक आतंकी के मन में झांकने जैसी है ये फिल्‍म

Published:
SHARE
ओमर्टा मूवी रिव्‍यू

ओमर्टा

रेटिंग:

3/5

कास्‍ट:

राजकुमार राव, राजेश तेलांग, टिमोथी रायन, केवल अरोड़ा

डायरेक्‍टर:

हंसल मेहता

समय:

1 घंटा 36 मिनट

जॉनर:

बायोपिक, क्राइम

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

रेजा नूरानी

1/8कहानी

‘ओमर्टा’ उमर सईद शेख की बायोग्राफिकल ड्रामा फिल्‍म है। उमर ब्रिटेन में जन्‍मे एक पाकिस्‍तानी मूल का आतंकी था। उमर भारत में विदेशी सैलानियों के अपहरण का जिम्‍मेदार था। यही नहीं, उसी ने अमेरिकी पत्रकार डैनियल पर्ल का अपहरण और खून भी किया था।

2/8समीक्षा

Omerta Movie Review in Hindi

हंसल मेहता ने ‘शाहिद’, ‘सिटी लाइट्स’ और ‘अलीगढ़’ जैसी फिल्‍में बनाई हैं। वो फिल्‍में जो सीधे दिल में उतरती हैं और भावनाओं को झकझोर कर रख देती हैं। ‘ओमर्टा’ में वह एक ऐसी रोचक कहानी लेकर आए हैं, जिसमें गहराई भी है और आम लोगों की दिलचस्‍पी भी। फिल्‍म में डॉक्‍यूमेंट्री स्‍टाइल में फुटेज भी हैं, जो इसे रियलिस्‍ट‍िक अनुभव देते हैं। लेकिन कहानी फिल्‍मी भी है और यहां भावनाओं से ज्‍यादा अपराध की दुनिया के काले सच से रूबरू करवाया गया है।

3/8‘क्‍योंकि आप ज्‍यादा से ज्‍यादा जानना चाहते हैं’

Omerta Movie Review in Hindi

‘ओमर्टा’ एक थ्री एक्‍ट प्‍ले है। इसमें हर नाट्य घृणास्पद लक्ष्यों को पूरा करने के लिए उमर के आतंकवादी मिशनों पर विस्‍तार से कहानी कहती है। फिल्म अपनी कहानी के कारण नहीं है, बल्कि इसलिए भी बांधे रखती है कि आप इसके नायक के बारे में अधिक से अध‍िक जानना चाहते हैं।

4/8राजकुमार ने की है जबरदस्‍त एक्‍ट‍िंग

Omerta Movie Review in Hindi

फिल्‍म में राजकुमार राव मुख्‍य किरदार में हैं। कहने की जरूरत नहीं कि उन्‍होंने आतंकी उमर शेख को पर्दे पर किस गहराई से उतारा है। उन्‍होंने एक बार फिर साबित किया है कि वो जबरदस्‍त हैं। ब्रिटिश अंदाज में उच्‍चारण से लेकर देसी लहजे और खतरनाक मुस्‍कान से लेकर गिरफ्तारी तक- राजकुमार ने उमर के हर अंदाज और आचरण को पर्दे पर जिंदा कर दिया है। हालांकि, उनके इर्द-गिर्द फिल्‍म में किसी और एक्‍टर के लिए करने को ज्‍यादा कुछ नहीं है, लेकिन फिर भी टिमोथी रायन ने डेनियल पर्ल के किरदार में राव के गंभीर अभ‍िनय के बराबर काम किया है।

5/8इस दुनिया में उमर जैसे भी लोग भी हैं

Omerta Movie Review in Hindi

‘ओमर्टा’ में डेनियल पर्ल के एग्‍जीक्‍यूशन का सीन रोंगटे खड़े करने वाला है। बाकी फिल्‍म में उमर के एक्‍शन, खौफ और अंदाज को साउंड इफेक्‍ट्स ने भी गंभीर बनाने का काम किया है। फिल्‍म देखकर आप अंदर तक हिल जाते हैं कि इस दुनिया में उमर जैसे लोग भी हैं।

6/8बांधती तो है, लेकिन जोड़ नहीं पाती फिल्‍म

Omerta Movie Review in Hindi

हंसल मेहता ने फिल्‍म को तथ्‍यों और किरदार के वैचारिक स्‍तर तक ही रखा है। फिल्‍म इस बात पर केंद्र‍ित नहीं है कि उमर ने अपने वहशी इरादों को कैसे अंजाम दिया। हंसल मेहता ने ऐसे में खुद अपने लिए सीमाएं बांध लीं और जाहिर तौर पर राजकुमार राव के लिए एक्‍शन के तौर पर करने के लिए ज्‍यादा कुछ नहीं बचा। लिहाजा, ‘ओमर्टा’ आपको भावनात्‍मक रूप से जोड़ने में नाकाम साबित होती है।

7/8गिरफ्तारी के वक्‍त असली उमर शेख

Omerta Movie Review in Hindi

8/8अब देख‍िए, ‘ओमर्टा ‘ का ट्रेलर