Home मूवी रिव्यू

Padmaavat Review: थोड़ी लंबी, लेकिन एंटरटेनिंग है ‘पद्मावत’

Published:
SHARE
पद्मावत फिल्‍म समीक्षा

पद्मावत

रेटिंग:

4/5

कास्‍ट:

दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह, शाहिद कपूर, अदिती राव हैदरी, जिम सरभ, रजा मुराद

डायरेक्‍टर:

संजय लीला भंसाली

समय:

2 घंटे 43 मिनट

जॉनर:

ड्रामा, रोमांस, पीरियड

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

नील सोआंस

1/9कहानी

रानी पद्मावती (दीपिका पादुकोण) महारावल रतन सिंह (शाहिद कपूर) की पत्‍नी हैं। 13वीं सदी के हिंदुस्‍तान में उनकी खूबसूरती और वीरता के खूब चर्चे थे। रानी की इसी खूबसूरती का जिक्र दिल्‍ली का सनकी सुल्‍तान अलाउद्दीन ख‍िलजी (रणवीर सिंह) के सामने होता है। ख‍िलजी दुनिया की हर नायाब चीज को पाना चाहता है, इसलिए बिना पद्मावती को देखे हुए भी वह रूप को लेकर मोहित हो जाता है। पद्मावती को पाने के लिए वह हर हद तक जाता है।

2/9समीक्षा

Padmaavat Movie Review in Hindi

यह फिल्‍म 1540 में सूफी कवि मलिक मोहम्‍मद जायसी के महाकाव्‍य ‘पद्मावत’ पर आधारित है। संजय लीला भंसाली ने जायसी की रचना को अपनी नजरों से पर्दे पर उतारने का काम किया है। कुल मिलाकर यह ‘पद्मावत’ किताब पर आधारित एक काल्‍पनिक कहानी सरीखा है। ऐसे में फिल्‍म को लेकर तमाम विवाद और विरोध का कोई औचित्‍य नहीं रह जाता।

3/9दीपिका-रणवीर-शाहिद की तिकड़ी

Padmaavat Movie Review in Hindi

खैर, फिल्‍म में भंसाली एक बार फिर अपने दो सबसे फेवरेट स्‍टार्स के साथ लौटे हैं। दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह। लेकिन इस बार इन दोनों को पर्दे पर पूरा करने का काम शाहिद कपूर भी करते हैं। तीनों ने फिल्‍म में जबरदस्‍त एक्‍ट‍िंग की है।

4/9अदम्‍य और दृढ़ शाहिद कपूर

Padmavat Wins Supreme Court Lifts Ban on Padmavat Release in Four BJP Ruled States News in Hindi

मेवाड़ के राजा महारावल रतन सिंह के रूप में शाहिद कपूर दृढ़ और अदम्‍य दिखते हैं। उनके किरदार में राजपूताना साहस और शान की झलक मिलती है। महारावल रतन सिंह के किरदार में ईमानदारी और आत्‍मबल की झलक मिलती है, जिसके बूते मेवाड़ राजघराना अपने राजा पर अभ‍िमान करता है। सबसे महत्‍वपूर्ण यह कि यही सारी बातें, उसे पद्मावती के दिलों में बसाती हैं।

5/9खूबसूरती और तेज दिमाग वाली दीपिका

Padmaavat Movie Review in Hindi

दीपिका पादुकोण एक राजपूत रानी के किरदार में शानदार लगी हैं। उनकी खूबसूरती, तेज दिमाग और जज्‍बा फिल्‍म की जान है। अलाउद्दीन ख‍िलजी पर जब पद्मावती को पाने का जुनून सवार होता है, उसके बाद से दीपिका किरदार फिल्‍म में अहम हो जाता है। इंटरवल के बाद दीपिका के किरदार में गति आती है और उन्‍हें अपने एक्‍ट‍िंग को दिखाने का मौका मिलता है।

6/9फिल्‍म की जान हैं रणवीर सिंह

Padmaavat Movie Review in Hindi

अलाउद्दीन खिलजी के रूप में रणवीर सिंह निश्‍चय ही पूरी फिल्‍म को अपने अनुसार चलाते हैं। वह ऐसा सुल्‍तान जो बर्बर है, अमानवीय है। वह जो सत्ता और भूख के लिए कुछ भी कर सकता है। झुंडदार चेहरा, आंखों में काजल और सनकीपन। स्क्रीन पर आपको हर पल रणवीर सिंह का इंतजार रहता है। उनके और शाहिद के बीच के कुछ सीन सबसे अध‍िक मनोरंजक हैं। दोनों ने एक-दूसरे के सामने अभ‍िनय पक्ष के सर्वोच्‍च स्‍तर हो छूने की कोश‍िश की है।

7/9अदिती और जिम का शानदार काम

Padmaavat Movie Review in Hindi

अदिती राव हैदरी मेहरुनिसा के किरदार में जमती हैं। जब उसे अपने पति ख‍िलजी की दरिंदगी का असली चेहरा पता चलता है तो वह बेचारी सी लगती हैं। सुल्‍तान ख‍िलजी के बंधुआ और सबसे करीबी के किरदार में जिम सरभ ने शानदार काम किया है। भंसाली ने पर्दे पर अपने लार्जर दैन लाइफ विजन को पेश करने की कोश‍िश की है, वह इसमें सफल भी हुए हैं।

8/9भव्‍यता की सौगात लेकर आए हैं भंसाली

Padmaavat Movie Review in Hindi

भंसाली अपनी फिल्‍मों में भव्‍यता और उदारता को उभारने के लिए जाने जाते हैं। फिल्‍म का 3डी वर्जन भंसाली की इस काबिलियत और अध‍िक बारीकी से पेश करता है। सिनेमेटोग्राफर सुदीप चटर्जी ने फिल्‍म के कुछ सीन और बहुत ही बेहतरीन ढंग से फिल्‍माया है। इसके लिए वह प्रशंसा के पात्र हैं। हालांकि, फिल्‍म में दिखाए गए युद्ध और लड़ाई के सीन उस भव्‍यता के स्‍तर को नहीं छू पाते हैं, जिसकी अपेक्षा ऐसी फिल्‍म से की जानी चाहिए।

9/9आंखों को सुकून देते हैं गाने

Padmavat Padmavat Clash With Akshay Kumar WhatClash With Akshay Kumar What

फिल्‍म के गाने कहानी को तो आगे नहीं बढ़ाते हैं। हां, लेकिन आंखों को सुकून जरूर देते हैं। फिल्‍म थोड़ी लंबी है। इसे छोटा किया जा सकता था। लेकिन ‘पद्मावत’ मनोरंजक है, इसमें कोई शक नहीं। जिंदगी को भव्‍य तरीके से बड़े कैनवस पर फिल्‍माने के मामले में संजय लीला भंसाली ने एक बार फिर बेहतरीन काम किया है।