Home मूवी रिव्यू

Ranchi Diaries Review: कमजोर कहानी ने डुबोई नैया

Published:
SHARE

रांची डायरीज

रेटिंग:

2/5

कास्‍ट:

हिमांश कोहली, ताहा शाह, सौंदर्या शर्मा, अनुपम खेर और जिमी शेरगिल

डायरेक्‍टर:

सात्‍व‍िक मोहंती

समय:

1 घंटे 37 मिनट

जॉनर:

कॉमेडी

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

रेजा नूरानी

1/5कहानी

गुड़‍िया, मोनू के साथ भागने का प्‍लान बनाती है। लेकिन मामला गड़बड़ हो जाता है। दोनों के साथ उनके कुछ दोस्‍त हैं, जो असल में किसी काम के नहीं हैं। कहानी में आगे एक ट्व‍िस्‍ट है।

2/5समीक्षा

पिंकू (ताहा शाह) एक फूड स्‍टॉल चलाता है। उसे गैंगस्‍टर बनना है। लेकिन दिनभर अपने कुछ नकारा दोस्‍तों के साथ तफरी करता है। उसका दोस्‍त मोनू (हिमांश कोहली) अपने बचपन के प्‍यार गुड़‍िया (सौंदर्या) के साथ शहर जाने का प्‍लान बनाता रहता है। गुड़ि‍या स्‍थानीय स्‍तर पर यूट्यूब पर अपनी सिंगिंग के लिए खूब फेमस है। लेकिन उसकी जिंदगी में खुद की ढेर सारी समस्‍याएं हैं।

3/5ठाकुर भैया बन जाते हैं परेशानी

फिल्‍म में अब ठाकुर भैया (अनुपम खेर) की एंट्री होती है। वह छोटे शहर की इस शकीरा यानी गुड़िया को लेकर सॉफ्ट कॉर्नर रखते हैं। जब ठाकुर भैया परेशानी बन जाते हैं तब गुड़‍िया, मोनू के साथ भागने का प्‍लान बनाती है। लेकिन इनके पास पैसे नहीं हैं। गुड़‍िया अब मोनू और उसके दोस्‍तों की मदद से बैंक लूटने की तैयारी में है।

4/5कॉमेडी फिल्‍म है, पर हंसी नहीं आती

‘रांची डायरीज’ एक कॉमेडी फिल्‍म है। इसमें कई फनी कैरेक्‍टर्स भी हैं, लेकिन कहानी इतन कमजोर है कि आपको हंसी नहीं आती। हालांकि, बैंक डकैती वाला सीक्‍वेंस लंबा होने के बाद भी एंटरटेनिंग है।

5/5अनुपम खेर-जिमी शेरगिल की दमदार एक्‍टिंग

एक्‍ट‍िंग की बात करें तो हिमांश कोहली को बिहारी अंदाज में बोलते देखना दुखदायी है। अनुपम खेर और जिमी शेरगिल छोटे रोल में हैं, लेकिन दोनों ने दमदार अभ‍िनय किया है। ताहा शर्मा और सौंदर्या शर्मा ने अच्‍छा काम किया है। फिल्‍म के अंत में एक मजेदार ट्विस्‍ट है, लेकिन अंत तक पहुंचने के लिए आपको पहले बहुत कुछ झेलना पड़ता है। ये सौदा थोड़ा दर्द भरा है।