Home टेलीविजन

सिद्धार्थ का खुलासा- मुझे पागलखाने में रखा, ड्रग्स देती थी मेरी मां

Published:
SHARE

1/9सिद्धार्थ ने तोड़ी चुप्पी…

सिद्धर्थ सागर कॉमेडी की दुनिया के पॉपुलर चेहरे हैं। वो ‘कॉमेडी नाइट्स विद कपिल’, ‘कॉमेडी सर्कस’ और ‘कॉमेडी नाइट्स लाइव’ जैसे शोज में नजर आ चुके हैं। बीते 4 महीनों से लाइमलाइट से दूर रहे सिद्धार्थ तब सुर्खियों का हिस्सा बने जब उनकी दोस्त सोमी सक्सेना ने लोगों से उनके लापता होने की बात कही। इस पोस्ट के बाद सिद्धार्थ ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर कर अपनी खैरियत दी। लेकिन इसके बाद मामले में नए खुलासे और ट्विस्‍ट जुड़ते गए। हमारे सहयोगी ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने सिद्धार्थ से बात की, जिसमें उन्‍होंने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

2/9क्यों रहे इतने दिनों तक चुप?

इस सवाल के जवाब में सिद्धार्थ ने कहा, ‘मैं इसलिए चुप था कि मुझे लगा कि यह मेरी पारिवारिक समस्या है और ये बाहर नहीं आनी चाहिए। करीब 20 साल पहले मेरे माता-पिता अलग हो गए थे। लेकिन पापा अक्सर घर आते थे। मैं एकदम ठीक था और मेरा करियर भी सही रास्ते पर था। यह सब 2013-14 के दौरान शुरू हुआ जब मेरी मां के मन में असुरक्षा पैदा हो गई कि मैं दोस्त बनाने लगा और अपने स्पिरिचुअल गुरु के पास जाने लगा। जब उन्होंने मुझे बताया कि वह किसी को पसंद करने लगी हैं तो मुझे उनके लिए खुशी हुई। मुझे लगा कि उन्हें भी एक साथी की जरूरत है। लेकिन मैं गलत था। क्योंकि चीजें तभी से खराब होने लगीं।’

3/9बिना बताए मुझे दी बाइपोलर की दवाएं

सिद्धार्थ कहते हैं, ‘कुछ समय बाद मेरा वजन बढ़ने लगा, मैं बेहोश सा रहने लगा। मैं हर वक्त डिप्रेस रहता और हकलाने लगा। जब मैंने अपनी मां को ये सब बताया तो पता चला कि मुझे बाइपोलर दवाएं दी जा रही हैं। मुझे खाने में मिलाकर ये दवाएं दी जा रही थीं, ये जानकर मैं हैरान था। मैंने उनसे पूछा कि किसने कहा कि मुझे बाइपोलर है? मैं उन पर विश्वास करता था और वह मेरा फाइनैंस संभालती थीं। लेकिन एक बार हमें जब एक प्रॉपर्टी खरीदने की जरूरत पड़ी, तो पता चला कि जिस इंसान के साथ वह रिलेशनशिप में थीं वह 80-90 लाख रुपए लेकर भाग गया। उन्होंने मुझे तब तक यह बात नहीं बताई जब तक यह समस्या सामने नहीं आ गई। मैं टूट गया था। मैं अकेला और परेशान रहने लगा।’

4/9जब मुझे बुरी तरह से पीटा जाता

‘मैं नशा करने लगा और जल्द ही अहसास हुआ कि यह रास्ता ठीक नहीं है। मैंने अपनी मां से बात की और उनसे नशामुक्ति केंद्र में भर्ती करवाने के लिए कहा। लेकिन बात तब और बिगड़ गई जब रिहैब में मुझे इतना बुरी तरह पीटा जाता कि मेरे खून तक निकल आता था। मैं बेहोश हो जाता। मैंने अपने मैनेजर को कॉन्टैक्ट किया और किसी तरह उन्होंने मुझे बाहर निकाला।’

5/9रिहैब और पागलखाने में बिताया समय

‘मैं रिहैब से बाहर आ गया था। लेकिन सुयश गडगिल (मेरी मां का बॉयफ्रेंड) से मेरी लगातार लड़ाई होती रही। मैंने अपने पैरंट्स से दूर रहने और काम पर ध्यान देने की पूरी कोशिश की। मुझे डर था कि वे मुझे नुकसान पहुंचा सकते हैं तो मैंने उनके खिलाफ शिकायत भी दर्ज करवाई। उन्होंने जबरदस्ती मुझे पागलखाने में भर्ती करवा दिया था। वहां मुझे टॉर्चर किया गया और पागलों की तरह ट्रीट किया गया। कई बार जब मेरे माता-पिता और सुयश के पास पैसे नहीं होते तो वे मुझे पागलखाने से बाहर निकलवाकर परफॉर्म करवाते और ऑर्गनाइजर्स से पैसे ले लेते। वे पागलखाने का खर्चा वहन नहीं कर पा रहे थे तो उन्होंने मुझे आशा की किरण में भर्ती करवा दिया।

6/9कैसे एनजीओ के लोगों ने उन्हें बचाया

‘जब मुझे आशा की किरण में भर्ती करवाया गया तो उनका प्लान फेल हो गया। यहां लोगों को अहसास हुआ कि मेरी इस हालत के पीछे जरूर कुछ चाल है। आशा के फाउंडर बशीर भाई मुझसे मिले और मुझे 10 दिन तक दवाएं दीं तो मेरी हालत में सुधार हुआ।’

7/9परिवार से दूर रहना चाहते हैं सिद्धार्थ

‘मैं अपने परिवार को प्यार करता हूं और भविष्य में भी उनकी पैसों से मदद करना चाहता हूं। मुझे उनसे कुछ नहीं चाहिए। मैं उनसे दूर रहना चाहता हूं। मैं कानूनी तरीका भी अपनाऊंगा। क्योंकि मैं नहीं चाहता कि सुयश मेरी गाढ़ी कमाई हड़पे। मैं चाहता हूं कि मेरी मां की भी काउंसिलिंग की जाए। क्योंकि पिछले कुछ साल में वह काफी बदल गई हैं। मैं शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से बिखर गया था। लेकिन अब मैं फिर से अपने पैरों पर खड़ा होना चाहता हूं।’

8/9दोस्त ने डिलिट कर दी अपनी पोस्ट

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिद्धार्थ की दोस्त सोमी सक्सेना ने बताया कि वो सिद्धार्थ की मां पर दबाव बनाना चाहती थीं ताकि वो सिद्धार्थ से बात करने दें। ऐसे में उन्होंने फेसबुक का सहारा लिया। हालांकि, फेसबुक पोस्ट के बाद सिद्धार्थ की मां ने सोमी से उनकी बात करवाई। सिद्धार्थ ने उन्हें बताया की वो ठीक हैं और दो दिन में उनसे मुलाकात करेंगे। सिद्धार्थ से बात करने के बाद सोमी ने इस पोस्ट को डिलीट कर दिया।

9/9ये रहा सिद्धार्थ का वो वीडियो-

right now im in safe hands …will update you guys in 2-3days

A post shared by Sidharth Sagar (@sidharthsagar.official) on

सिद्धार्थ वीडियो में कहते हैं, ‘मेरी फैमिली के खिलाफ मैंने एनसी (गैर संज्ञेय अपराध) फाइल की थी। इस कारण उन्होंने मेरे लिए बहुत परेशानियां खड़ी की हैं। मैं काफी मानसिक तनाव से गुजरा हूं। फिलहाल, मैं अब जिस जगह पर हूं उन्होंने मुझे बहुत सपोर्ट किया है।’

SHARE