Home वीडियो

Video: कुछ इस तरह मोटरसाइकिल के पहिए ने बदला बॉलीवुड

Published:
SHARE

1/10चलता है रास्ता… या चल रहे होते हैं हम?

sholay

बस में सफर करते हुए। दरख्त किनारे खड़े रहते हैं। हम देखते रहते है। सवारी की अपनी फितरत है। पता नहीं चलता हम चल रहे हैं या फिर पेड़-पौधे, सड़क सफर कर रहे हैं। मंजिल आती है। पहुंच गए। लेकिन वो पेड़ों को देखते रहना अपने आप में एक सफर है। चलो, बाइक पर निकलते हैं। आसमान भी देखते हैं पेड़ों के साथ-साथ। कायनात की हर जुंबिश (हरकत) को निहारते हैं। फिल्मी हैं हम। फिल्में तो आएंगी ही। बॉलीवुड में बाइक ने बहुत कुछ बदला है। या कहें कि बाइक के सफर ने बॉलीवुड को बदला है। है ना। चलिए बात करते हैं।

2/10ये दोस्ती (शोले)

इस गाने से कई दोस्तों की दोस्ती ना टूटने वाला एक अटूट किस्सा बन गई। दम टूटने तक का साथ निभाने वाले थे अब दो दोस्त। यहां बाइक के दो नहीं चार पहिए थे। मामला बराबरी का है। आज भी बाइक पर तफरी मारते हुए दो दोस्त ये गाना गुनगुनाते हैं।

3/10रोते हुए आते हैं सब (लावारिस)

गाना नहीं ये… फिलॉसफी है। बातें हंसने की हो रही हैं। रोना-धोना छोड़ दो। यही मैसेज दे रहा है ये गाना।

4/10एक रास्ता है जिंदगी (काला पत्थर)

इस गाने में शशि कपूर हैं। साहिर लुधियानवी ने ये गाना लिखा है। यहां तो जिंदगी को ही एक रास्ता बता दिया है। ‘ये कदम अगर किसी मुकाम पे जो थम गए तो कुछ नहीं, इक रास्ता है जिंदगी जो थम गए तो कुछ नहीं।’

5/10तेरे मेरे बीच में (एक दूजे के लिए)

पूरा गाना तो बाइक पर नहीं फिल्माया गया, पर जितना भी फिल्माया गया है बहुत खूब हैं। बंधन अंजाना है। कमल हासन और रति अग्निहोत्री की जोड़ी, समदंर की लहरें, इश्क और क्या ही चाहिए सुनने के लिए, गुनगुनाने के लिए।

6/10प्रेमी, आशिक, आवारा (फूल और कांटे)

अजय देवगन का बॉलीवुड करियर शुरू हो चुका था। यहां बॉलीवुड की गलियों में प्यार-मोहब्बत की दुकानें खुल चुकी थी। गानों में आशिकी के मायने दिखने लगे थे। प्यार तकरार से शुरू होने लगा था।

7/10कोई ना कोई चाहिए (दीवाना)

अब शाहरुख का एंट्री हुई। आज जो आपको रोमांस के बादशाह नजर आते हैं, लेकिन कभी फिल्मों में किसी की चाहत में सड़कों पर भटकते थे। याद रहे सिर्फ ‘फिल्मों में’।

8/10ओ हम दम (साथिया)

दुनिया बहुत बदल गई थी। अब बाइक चलाते हुए एक्टर गाने गाता नहीं, बल्कि सुनता था। कानों में हैडसेट लगाए हुए यूं लगता है मानों रास्तों को बस अपने तक सीमित रखना चाहता है वो। हां, लेकिन आप बाइक चलाते वक्‍त ऐसा मत कीजिएगा, दुर्घटना के श‍िकार हो सकते हैं।

9/10तू है कि नहीं (रॉय)

इस गाने पर हीरो दुखी हो गया था। वो बस महसूस करना चाहता था, हालांकि कर भी नहीं पा रहा था। बिना हैलमेट डाले, सिर ऊपर उठाए, बस चलता जा रहा है। वैसे, सड़क पर ऐसी हरकत चालान कटवा सकती है और खतरनाक भी है।

10/10ओके जानू (ओके जानू)

हीरो प्यार से गम लेने को रेडी हो गया है। सड़क सिमट गई है। दिल की चोरी एक लड़की ने की है। उसके साथ वो पूरा-दिन रात शहर में घूमता है। कुछ करने का प्लान है। चल ना सफर करते हैं। हिंदी वाला सफर।