Filmipop

कितनी बार कर सकते हैं Bathroom को साफ? जानें ये आसान तरीका

Authored by Puneet Saini | Hindi Filmipop | Updated: 21 Nov 2022, 5:57 pm

हमें नियमित रूप से bathroom की सफाई करनी चाहिए। इससे न केवल हम गंदगी से बल्कि यहां पैदा होने वाले कीटाणुओं से भी बचे रह सकते हैं। जिससे बीमारियों का खतरा भी कम होता है। यहां बताया गया है कि बाथरूम की सफाई कब और कितनी बार करनी चाहिए।

 
नई दिल्ली। घर में किचन और लिविंग रूम के बाद bathroom का सबसे ज्यादा यूज किया जाता है। भले ही आपकी bathroom दिनभर क्यों न महकती हो, लेकिन सच्चाई यही है कि यहां सबसे ज्यादा कीटाणु पाए जाते हैं। bathroom में जमे मैल और गंदगी को कई बीमारियों की जड़ माना जाता है। आपको जानकर हैरत होगी, लेकिन बाथरूम का फर्श प्रति वर्ग इंच 764 बैक्टीरिया का घर है। एक bathroom के काउंटर पर लगभग 452 बैक्टीरिया पाए जाते हैं।
इस संख्या को कम करने के लिए आपको नियमित रूप से bathroom को साफ करने की जरूरत है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में लोग बाथरूम को साफ और कीटाणु रहित रखने के प्रति जागरूक हुए हैं। लेकिन जानकारी के अभाव में बाथरूम की सफाई करते वक्त चूक हो जाती है, जिससे यह जगह गंदी दिखने लगती है। जानकारों के अनुसार , कीटाणु एक से कहीं भी सात दिनों तक सतहों पर रह सकते हैं। ऐसे में रोजाना बाथरूम की सफाई करने पर कीटाणुओं से फैलने वाले संक्रमण से बचा जा सकता है।
इतना ही नहीं एक साफ bathroom आपको तनाव मुक्त भी रखने में मदद करता है। अगर आप नहीं जानते कि bathroom को कब और कितने समय में साफ करना चाहिए, तो यह आर्टिकल आपकी मदद कर सकता है। यहां पर बताया गया है कि bathroom को कितने समय में सफाई की जरूरत होती है और यहां रखी चीजों जैसे बाथटब, सिंक, टॉवेल आदि को कब-कब साफ करना चाहिए।


बाथरूम कितनी बार साफ करनी चाहिए-

सामान्‍य तौर पर आपको सप्ताह में एक बार अपनी bathroom साफ करने की जरूरत होती है। जिसमें टॉयलेट सीट और सिंक भी शामिल है। ध्‍यान रखें, अकेला सफाई करने से ही काम नहीं चलेगा, bathroom में रखी चीजों को जर्म फ्री करना भी जरूरी है।

टॉयलेट को कितनी बार साफ करें-

bathroom में टॉयलेट ही जर्म्‍स का घर है। सप्‍ताह में कम से कम एक बार टॉयलेट की डीप क्लीनिंग जरूर करनी चाहिए। अगर आपका परिवार बड़ा है, तो हर दो से तीन दिन में इसे साफ करें। इसका मतलब यह नहीं कि आपको हर दो से तीन में इसे रगड़ना है। लेकिन कीटाणुओं को खत्म करने के लिए टॉयलेट सीट को हाइड्रोजन पेरोक्साइड से पोंछना ही काफी है।

बाथरूम टॉवेल को कब साफ करें-

लोग bathroom की सफाई तो बहुत अच्छे से कर लेते हैं, लेकिन टॉवेल को क्लीन करना भूल जाते हैं। हर दूसरे दिन इसे वॉश करना चाहिए। bathroom में टंगी गीली तौलिया में नमी बहुत जल्दी आ जाती है, जिससे फफूंदी लगने की संभावना बढ़ जाती है।

बाथमेट को कितनी बार साफ करें-

कई लोग बाथमेट को bathroom cleaning का हिस्‍सा नहीं मानते। लेकिन टॉवेल की तरह इसे भी नियमित रूप से साफ करना चाहिए। दरअसल, बाथ मैट पानी से गीले हो जाते हैं और इन पर हर तरह की गंदगी और मैल जम जाता है। इसलिए इन्‍हें कुछ- कुछ दिनों में धो लेना चाहिए। ज्‍यादा गंदा होने पर सप्ताह में इसे कम से कम एक बार धोना तो जरूरी है।

बाथरूम का फर्श-

जल्दबाजी में या व्यस्तता के कारण लोग कई बार bathroom रोजाना साफ नहीं कर पाते। लेकिन सप्ताह में लगभग एक बार फर्श की झाड़ू लगानी चाहिए। अगर घर में गिने-चुने लोग हैं और बाथरूम का यूज बहुत ज्‍यादा नहीं होता, तो इसे गीले कपड़े से पोंछना ही काफी है। लेकिन जब भी आपके पास समय हो, तो हाइड्रोजन पेरोक्साइड की मदद से टॉयलेट के आसपास की जगह को जरूर पोंछें।

इन सबके अलावा बाथरूम के नॉब, हैंडल, वॉश बेसिन और नल को रोजाना साबुन के पानी से क्‍लीन करने का अपना रूटीन बनाएं। टॉयलेट का इस्तेमाल करते वक्त हमेशा सर्तक रहें। इसे हमेशा अगले व्यक्ति के इस्तेमाल करने से पहले साफ छोड़ने की कोशिश करें।