Filmipop

टमाटर खाने के हैं कई फायदे, कैलोरी, वेट कंट्रोल और ग्लोइंग स्किन पाने में मिलती है मदद

Authored by Puneet Saini | Hindi Filmipop | Updated: 23 Nov 2022, 3:14 pm

लाइकोपीन एक पावर हाउस के जैसा है क्योंकि यह एंटीऑक्सीडेंट है जिसे पुरानी बीमारी से लड़ने में मदद मिलती है। सोडियम का कम सेवन आपके ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने में मदद करता है।

 
टमाटर खाने के हैं कई फायदे, कैलोरी, वेट कंट्रोल और ग्लोइंग स्किन पाने में मिलती है मदद
टमाटर खाने के हैं कई फायदे, कैलोरी, वेट कंट्रोल और ग्लोइंग स्किन पाने में मिलती है मदद
टमाटर calories को कम करने, weight कम करने, कब्ज को रोकने और यहां तक की त्वचा को चमकदार बनाने में भी मदद करता है। टमाटर के अलग-अलग डिश या उसे पकाने के अलग-अलग तरीके का असर शरीर पर डिफरेंट तरीके से होता है। जहां टमाटर का सूप, जूस और प्यूरी वजन कम करने में मदद कर सकते हैं, वहीं कच्चे टमाटर आपको डिहाइड्रेशन में मदद कर सकते हैं और स्पेगेटी सॉस Heart Health के लिए अच्छे हैं। एक्सपर्ट के अनुसार चेरी टमाटर में हाई बीटा-कैरोटीन होता है।
टमाटर के फायदों की है लंबी लिस्ट
वैसे तो टमाटर को विटामिन K और एंटीऑक्सीडेंट का बढ़िया सोर्स माना जाता है, लेकिन इसके बेनिफिट्स की एक लंबी लिस्ट है जो आपके डेली हेल्थ सिस्टम में शामिल हो सकती है और आपको कई बीमारियों से बचा सकती है। टमाटर में मौजूद लाइकोपीन ही इन्हें चमकदार लाल रंग देता है और सूर्य की पराबैंगनी किरणों से बचाने में मदद करता है। उसी तरह, यह सेल्स को नुकसान से बचाने में मदद करता है। अन्य प्रमुख न्यूट्रिएंट्स के अलावा टमाटर में पोटैशियम, विटामिन बी और ई भी होते हैं।

लाइकोपीन से भरपूर होते हैं टमाटर
लाइकोपीन एक पावर हाउस के जैसा है क्योंकि यह एंटीऑक्सीडेंट है जिसे पुरानी बीमारी से लड़ने में मदद मिलती है। शरीर में, लाइकोपीन ज्यादातर लीवर और प्रोस्टेट ग्लैंड में जमा होता है और शरीर के अन्य भागों जैसे ब्रेन और स्किन में भी पाया जा सकता है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है या पुराने रोग डेवलप होते हैं, लाइकोपीन की उपलब्धता कम हो जाती है। ऐसे में टमाटर जैसे लाइकोपीन से भरपूर फूड्स का लगातार सेवन महत्वपूर्ण है। लाइकोपीन में एंटी कैंसर, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी डायबिटिक गुण पाए गए हैं। इसके अतिरिक्त canned tomatoes में अधिक लाइकोपीन पाई जाती है। यह हीटिंग प्रक्रिया के कारण होता है जो टमाटर स्कैनिंग प्रक्रिया के दौरान गुजरता है, क्योंकि यह लाइकोपीन को सक्रिय करता है और आपके शरीर को इसे अधिक आसानी से ऑब्जर्व करने और उपयोग करने की इजाजत देता है। बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन, फ्लेवोनोइड्स, फेनोलिक एसिड और टैनिन के कारण टमाटर अपने कई एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए फेमस हैं।

टमाटर को पकाने के तरीकों पर निर्भर करते हैं इसके फायदे
टमाटर के विभिन्न प्रकार और आकार होते हैं और पूरी दुनिया में उन्हें अलग-अलग तरीकों से पकाया जाता है। इसके फायदे इसी बात पर भी निर्भर करते हैं। जहां टमाटर का सूप, जूस और प्यूरी वजन को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं, वहीं कच्चे टमाटर डिहाइड्रेशन में मदद कर सकते हैं। हेल्थ बेनिफिट्स सब्जियों के प्रकारों के बीच भी भिन्न हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, चेरी टमाटर में नियमित टमाटर की तुलना में बीटा-कैरोटीन की मात्रा अधिक होती है। लेकिन ओवर ऑल बेनिफिट्स को इस तरीके से समझ सकते हैं:
कैलोरी: 22.5
कार्बोहाइड्रेट: 4.86 ग्राम
वसा: 0.25 ग्राम
प्रोटीन: 1.1 ग्राम
विटामिन सी: 17.1 मिलीग्राम
पोटेशियम: 296 मिलीग्राम
विटामिन के: 9.88 एमसीजी
फोलेट: 18.8 एमसीजी
पानी: 95 प्रतिशत

विटामिन से भरपूर है यह सुपरफूड

टमाटर में विटामिन सी एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है और त्वचा, हड्डियों और Connective Tissues के लिए महत्वपूर्ण है। यह शरीर को आयरन को ऑब्जर्व करने में मदद करता है। बुजुर्गों में ब्लड क्लॉटिंग और मजबूत हड्डियों को बनाए रखने के लिए विटामिन के की आवश्यकता होती है। फोलेट मानव शरीर के डीएनए के प्रोडक्शन करने में मदद करता है। यह एनीमिया को रोकने के लिए रेड ब्लड सेल्स को बनाने में भी मदद करता है और विटामिन बी 12 और सी के साथ काम करता है। टमाटर पोटेशियम से भरपूर होता है मांसपेशियों सहित शरीर में प्रोटीन बनाने के लिए जरूरी मिनरल्स और कार्बोहाइड्रेट का उपयोग करने और पीएच संतुलन को बैलेंस करने में कारगर है।

प्रतिदिन कितने टमाटर का सेवन करना चाहिए?

डेली पोटेशियम की मात्रा आपकी किडनी की बीमारी के स्टेप या आपके डायलिसिस के प्रकार पर निर्भर करती है। टमाटर में ऑक्सालेट्स होते हैं, जो किडनी की पथरी के निर्माण के लिए जिम्मेदार होते हैं। आम तौर पर लोग यह नहीं समझ पाते हैं कि टमाटर में ऑक्सालेट की इतनी मात्रा गुर्दे की पथरी के लिए पर्याप्त नहीं है क्योंकि 100 ग्राम टमाटर में लगभग 5 मिलीग्राम ऑक्सालेट होता है। साथ ही, किडनी की पथरी से पीड़ित लोगों को सलाह दी जाती है कि वे टमाटर को अपने आहार से सीमित करें लेकिन पूरी तरह से बंद न करें।

कई रोगों को कंट्रोल करने में मददगार है

ब्लड प्रेशर: सोडियम का कम सेवन आपके ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने में मदद करता है। टमाटर पोटेशियम से भरपूर होते हैं और शरीर में सोडियम की मात्रा को कम करते हैं।

दिल की बीमारी: टमाटर में फाइबर, पोटेशियम, विटामिन सी और कोलीन की मात्रा अधिक होती है, ये सभी हार्ट हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं। कार्डियोवैस्कुलर बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए एक आवश्यक डाइट है पोटेशियम की खपत बढ़ाना और नमक का सेवन कम करना।

ब्लड शुगर कंट्रोल: स्टडी के अनुसार, हाई फाइबर डाइट वाले टाइप 1 डायबिटीज वाले लोग ब्लड शुगर के लेवल को कम अनुभव कर सकते हैं। वहीं, टाइप 2 डायबिटीज वाले लोग बेहतर ब्लड शुगर, लिपिड और इंसुलिन के लेवल का अनुभव कर सकते हैं। एक कप चेरी टमाटर में लगभग दो ग्राम फाइबर होते हैं। इसके अलावा, इनमें 15 से कम का जीआई है, जो उन्हें कम जीआई फूड और डायबिटीज के लिए एक बेहतर विकल्प बनाता है। डायबिटीज वाले लोगों को 55 से कम जीआई स्कोर वाले फूड खाने चाहिए। ये कैलोरी में कम होते हैं और हेल्दी वेट बनाए रख सकते हैं।

कब्ज रोकता है: टमाटर पानी और फाइबर से भरपूर होते हैं। इसके सेवन से दैनिक फाइबर का लगभग 10 प्रतिशत शरीर को मिल जाता है जिसके परिणामस्वरूप पाचन में मदद मिलती है और कब्ज की परेशानी दूर होती है।

स्किन बेनिफिट्स: टमाटर में अम्लीय गुण होते हैं और पोटेशियम और विटामिन सी अच्छी मात्रा में होते हैं। इनके पोषक तत्व त्वचा में सुधार करते हैं और चमक लाते हैं। उम्र बढ़ने और यूवी जोखिम से जुड़ी स्किन रिलेटेड परेशानियों का इलाज कर सकते हैं।

टमाटर कैसे खाएं?

स्पेगेटी सॉस की तरह टमाटर को पकाना सबसे अच्छा है क्योंकि यह इसे हेल्दी हार्ट के लिए फायदेमंद बनाता है और कैंसर से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है।

त्वचा क्यों निकालें?

लेक्टिन को हटाने के लिए टमाटर की उपरी स्किन को हटाने की सलाह दी जाती है, जो आमतौर पर शरीर के लिए पचाने में मुश्किल होती है, जिससे अक्सर आंतों में समस्या होती है। रिसर्च में यह बात भी सामने आई है कि लेक्टिन से डायजेस्टिव सिस्टम, पेट दर्द, बेचैनी और उल्टी हो सकती है इसलिए बेहतर है कि इससे बचा जाए।

टमाटर के बीज के फायदे नुकसान जानें

टमाटर के बीज छोटे लेकिन शक्तिशाली होते हैं क्योंकि वे विटामिन सी और फूड फाइबर की अच्छाइयों से भरे होते हैं। फल की तरह इसके बीज भी स्किन, हार्ट, वेट मैनेजमेंट और रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए फायदेमंद होते हैं। इसके अलावा, टमाटर के बीज पाचन के लिए अच्छे होते हैं और डाइजेस्टिव फाइबर और अमीनो एसिड से भरे होते हैं, जो पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण में मदद करते हैं, मेटाबॉलिज्म और आंतों के स्वास्थ्य में सुधार करते हैं।

इन्हें नहीं खाने चाहिए कच्चे टमाटर

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल से पीड़ित लोगों को कच्चे टमाटर या टमाटर के बीजों के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि उनके एसिड नेचर से परेशानी पैदा हो सकती है और पाचन तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। टमाटर में प्यूरीन की मात्रा कम होती है इसलिए यदि आपका यूरिक एसिड अधिक है तो आप इसे ले सकते हैं लेकिन कभी-कभी यह कुछ लोगों में सूजन का कारण बनता है।