Home मूवी रिव्यू

Nanu Ki Jaanu Review: मजेदार कॉन्‍सेप्‍ट, बेकार स्‍क्रीनप्‍ले

Updated: Apr 20, 2018 14:47 pm
SHARE
नानू की जानू मूवी र‍िव्‍यू इन हिंदी

नानू की जानू

रेटिंग:

2.5/5

कास्‍ट:

अभय देओल, पत्रलेखा, बृजेंद्र काला, मनु ऋषि

डायरेक्‍टर:

फराज हैदर

समय:

2 घंटे 13 मिनट

जॉनर:

हॉरर, कॉमेडी

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

रेजा नूरानी

1/7कहानी

नानू (अभय देओल) जमीन माफिया का एजेंट है। वह दिल्‍ली-एनसीआर में पहले घर किराए पर लेता है और फिर उस पर कब्‍जा कर लेता है। इसा काम में उसके तीन-चार साथी भी हैं। लेकिन इसी बीच नानू के नए फ्लैट में एक भूतनी भी रहने लगती है। कहानी में यहां से दिलचस्‍प मोड़ आता है।

2/7समीक्षा

Nanu Ki Jaanu Movie Review in Hindi

नानू और उसके गैंग का धंधा दबंगई, अल्‍हड़पन और क्रूरता से चलता है। नानू किसी भी बात का सीधा जवाब नहीं देता। टेढ़ा आदमी है। उसके धंधे के लिए यह उसे जरूरी भी लगता है। लेकिन एक दिन वह कुछ अच्‍छा करता है। सड़क पर हादसे का श‍िकार हुई एक लड़की को वह अस्‍पताल लेकर जाता है। लेकिन लड़की की मौत हो जाती है। यह घटना नानू को थोड़ा विचलित भी कर देती है और भावुक भी।

3/7नानू के जीवन में भूतनी की एंट्री

Nanu Ki Jaanu Movie Review in Hindi

नानू के हालात धीरे-धीरे खराब होने लगते हैं। काम-धंधे पर से उसका ध्‍यान भटकने लगता है। भावनाओं में बहता हुआ वह खुद को बीमार महसूस करता है। वह डॉक्‍टर से भी संपर्क करता है। लेकिन इससे पहले कि वह इन परेशानियों से निपटे, उसके नए फ्लैट में एक भूतनी का वास हो जाता है। अजीब-अजीब से घटनाएं घटती हैं। नानू को यह फ्लैट भी कब्‍जा करना है, लेकिन वह भूतनी के चक्‍कर में ऐसा फंसता है कि सब उलटा-पुलटा हो जाता है।

4/7नानू से प्‍यार करती है ये भूतनी

Nanu Ki Jaanu Movie Review in Hindi

यह भूत उसी लड़की सिद्धी (पत्रलेखा) का है, जिसे नानू अस्‍पताल लेकर गया था। भूतनी थोड़े अलग मिजाज की है। वह नानू के घर को सहेजकर, सजाकर रखती है। लेकिन इन सारी चीजों से डरा हुआ नानू कुछ भी समझने और करने की स्‍थ‍िति में नहीं रह जाता। बाद में पता चलता है कि वह भूतनी नानू से प्‍यार करती है।

5/7मजेदार कॉन्‍सेप्‍ट, लेकिन सतही फिल्‍म

Nanu Ki Jaanu Movie Review in Hindi

‘ओए लक्‍की! लक्‍की ओए!’ के बाद अभय देओल और मनु ऋष‍ि की जोड़ी एक बार फिर पर्दे पर साथ आई है, लेकिन इस बार पहले जैसा कलेवर नहीं है। निश्‍च‍ित तौर पर फिल्‍म की कहानी में नयापन है और यह दिलचस्‍प है, लेकिन स्‍क्रीनपले कमजोर है। कॉमेडी और हॉरर के इस मेलजोल को बांधने में डायरेक्‍टर फराज हैदर नाकामयाब साबित हुए हैं। मजेदार कॉन्‍सेप्‍ट के साथ फिल्‍म शुरू तो होती है, लेकिन आगे बढ़ते ही लय खो देती है।

6/7पहला हाफ मजेदार, दूसरा बर्दाश्‍त से बाहर

Nanu Ki Jaanu Movie Review in Hindi

मनु ऋष‍ि अपने कॉमिक अंदाज में हंसाने में कामयाब होते हैं। फिल्‍म का पहला हाफ पसंद आता है, क्‍योंकि इसमें कई मजेदार कॉमेडी सीन हैं। लेकिन दूसरा हाफ इमोशनल करने के चक्‍कर में दर्शकों को बोर करता है। सेकेंड हाफ में कई नए कैरेक्‍टर्स की एंट्री होती है, लेकिन परफॉर्मेंस और कहानी दोनों ही स्‍तरों पर यह सतही साबित होती हैं। कॉमेडी के साथ शुरू हुई यह फिल्‍म में जबरन परोसे गए इमोशनल ड्रामा और कुछ मैसेजेज के साथ खत्‍म होती है।

7/7देखें, फिल्‍म ‘नानू की जानू’ का ट्रेलर