Home मूवी रिव्यू

Shaadi Mein Zaroor Aana Review: मुद्दों में उलझी कहानी

Published:
SHARE

शादी में जरूर आना

रेटिंग:

3/5

कास्‍ट:

राजकुमार राव, कृति खरबंदा

डायरेक्‍टर:

रत्‍ना सिन्‍हा

समय:

2 घंटे 17 मिनट

जॉनर:

रोमांस

लैंग्‍वेज:

हिंदी

समीक्षक:

रेणुका व्‍यावहारे

1/7कहानी

आरती शुक्‍ला (कृति खरबंदा) कानपुर की रहने वाली है। पढ़ी-लिखी समझदार लड़की है। सत्‍येंद्र (राजकुमार राव) से आरती की शादी तय होती है। सत्‍तु की सरकारी नौकरी (एक्‍साइज डिपार्टमेंट में क्‍लर्क) और उसकी अपर क्‍लास फैमिली आरती के घरवालों का मन मोह लेते हैं। जबकि सत्‍तु का शालीन अंदाज और उदारवादी सोच कृति को उससे प्‍यार करने पर मजबूर कर देते हैं।

2/7अरेंज मैरेज वाली प्रेम कहानी

Shaadi Mein Zaroor Aana Movie Review in Hindi

अरेंज मैरेज से पहले दोनों की लव स्‍टोरी भी शुरू होती है, लेकिन तभी कहानी में एक ट्विस्‍ट आता है। शादी के दिन आरती घर छोड़कर चली जाती है। बिना कोई कारण बताए।

3/7समीक्षा

Shaadi Mein Zaroor Aana Movie Review in Hindi

आरती को डर है कि वह शादी के बाद सिर्फ एक हाउसवाइफ बनकर रह जाएगी। उसे सत्‍तु से प्‍यार के एवज में अपनी महत्‍वाकांक्षाओं का गला घोंटना पड़ेगा। ऐसे में वह आजादी और करियर को चुनती है। उधर, सत्‍तु का दिल टूट जाता है। उसे धक्‍का पहुंचता है। घर में रिजेक्‍शन, समाज में बदनामी और टूटे दिल की चोट सत्‍येंद्र को पूरी तरह बदल देती है। लेकिन कई वर्षों के बाद किस्‍मत उन्‍हें फिर से मिलाती है और फिर कहानी नया मोड़ लेती है।

4/7एक फिल्‍म, ढेर सारे सामाजिक मुद्दे

Shaadi Mein Zaroor Aana Movie Review in Hindi

डायरेक्‍टर रत्‍ना सिन्‍हा ने इस फिल्‍म के जरिए कई सामाजिक मुद्दों की ओर ध्‍यान खींचा है। वह दहेज प्रथा, घूसखोरी, लैंगिक समानता जैसे मुद्दों को फिल्‍म में उठाती हैं। यह फिल्‍म जेन ऑस्‍ट‍िन की क्‍लासिक किताब ‘परसुएसन’ से प्रभावित जान पड़ती है। फिल्‍म में वर्ग, लिंग असमानता, बदला, ईर्ष्या और प्रेम जैसे तमाम मसाले हैं।

5/7खींची हुई लगती है फिल्‍म

Shaadi Mein Zaroor Aana Movie Review in Hindi

हालांकि, जेन की किताब जहां दो प्रेमियों के दोबारा मिलने और उनके रिश्‍तों में तनाव, ग्‍लानि और जुनून की भावना को बड़ी ही खूबसूरती से संजोती है। तनुजा चंद्रा की फिल्‍म इस सब को एक धागे में पिरोने में खींची सी मालूम पड़ती है।

6/7एक्‍टर्स की दमदार परफॉर्मेंस

Shaadi Mein Zaroor Aana Movie Review in Hindi

खैर, फिल्‍म का प्‍लॉट थोड़ा बोझिल जरूर है। लेकिन जो एक चीज आपको बांधे रखती है वो है राजकुमार की परफॉर्मेंस। वह फिल्‍म दर फिल्‍म और निखर रहे हैं। राव की पिछली रिलीज ‘न्‍यूटन’ ऑस्‍कर के लिए नॉमिनेट हो चुकी है। भोले-भाले सत्‍येंद्र के रोल में उन्‍होंने जान डाल दी है। कृति भी अपनी सादगी के बूते राव की एक्‍ट‍िंग के आगे अपना दम दिखाने में कामयाब होती हैं।

7/7टिपिकल फैमिली ड्रामा

Shaadi Mein Zaroor Aana Movie Review in Hindi

यह फिल्‍म और बेहतर बन सकती थी। लेकिन यदि आप फैमिली ड्रामा देखने से परहेज नहीं रखते हैं तो यह आपके लिए है। फिल्‍म देखकर 90 के दशक की कुछ यादें ताजा हो जाती हैं।